ईएनटी (ENT) क्या होता है | ENT का फुल फॉर्म | ENT Doctor कैसे बने

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर आज का हमारा टॉपिक है की ईएनटी ENT क्या होता है | ENT का फुल फॉर्म | ENT Doctor कैसे बने। जैसा की आपको ज्ञात होगा अलग अलग बीमारी के लिए डॉक्टर भी अलग अलग होते है। अगर आपको नाक, कान और गला में किसी प्रकार की बीमारी होता है तो ईएनटी डॉक्टर ही आप का इलाज कर सकते हैं। अब आपके दिमाग में यह सवाल जरुर आता कि आखिर कान, नाक और गले से संबंधित बीमारियों के इलाज करने वाले डॉक्टर को ईएनटी डॉक्टर ही क्यों कहा जाता है।

ENT क्या होता है

इसके अलावा अगर आप मेडिकल के क्षेत्र में ईएनटी डॉक्टर बनना चाहते हैं तो इस पोस्ट में हम ENT क्या होता है ENT Doctor कैसे बने – योग्यता, सैलरी व कोर्स फ़ीस इत्यादि के बारे में विस्तार से बताने जा रहे है। इस पोस्ट को अंत तक पढ़ने के बाद आपकी सभी सवालों का जवाब प्राप्त हो जाएगा इसलिए पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

Read: मास कम्युनिकेशन क्या है ? Mass Communication कोर्स (डिप्लोमा/डिग्री) कैसे करे

ईएनटी (ENT) का फुल फॉर्म

ENT का फुल फॉर्म “Ear Nose Throat” होता है। ईएनटी का हिंदी में फुल फॉर्म “नाक, कान और गला” होता है।

ENT क्या होता है?

ईएनटी का मतलब Ear, Nose, Throat होता है जिसको हिंदी में नाक, कान और गला कहा जाता है। ईएनटी मेडिकल के क्षेत्र में प्रयोग होने वाला शब्द है। मेडीकल के क्षेत्र में ENT चिकित्सा एवं सर्जरी की एक शाखा है जिसमें नाक, कान और गला में उत्पन्न समस्याओं का निदान करने में विशेषज्ञ बनाया जाता है। मेडिकल के इसी शाखा को शार्ट में ENT कहा जाता है।

ईएनटी विशेषज्ञ बनने के लिए Otolaryngology की पढ़ाई करनी होती है। पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्हें ईएनटी विशेषज्ञ, ईएनटी डॉक्टर या Otolaryngologist कहा जाता है। ईएनटी डॉक्टर इलाज के साथ साथ सर्जरी भी करते हैं।

ईएनटी (ENT) डॉक्टर कौन-कौन से बीमारी का इलाज करते है?

  • ईएनटी विशेषज्ञ या ईएनटी के डॉक्टर मानव शरीर के नाक, कान और गले से संबंधित कई तरह की बीमारियों का इलाज करते हैं नीचे कुछ बीमारियों को दर्शाया गया है जिसका इलाज ईएनटी डॉक्टर करते हैं।
  • ईएनटी डॉक्टर कान से संबंधित सभी बीमारी जैसे- कान बंद होना, कान में सीटी बजना, कान बहना, कान में इन्फेक्शन हो जाना, कम सुनाई देना, इत्यादि का इलाज करते है।
  • ईएनटी डॉक्टर नाक से संबंधित बीमारी जैसे – नाक से खून आना, नाम में एलर्जी होना, नाक बंद हो जाना इत्यादि लक्षणों का इलाज करते है।
  • ईएनटी विशेषज्ञ या डॉक्टर गले से संबंधित सभी तरह की बीमारी जैसे – गला कैंसर, थायरॉइड, आवाज बैठ जाना, बोलने में कठिनाई, निगलने में कठिनाई इत्यादि समस्याओं का समाधान करते है।
  • इसके अलावा ईएनटी डॉक्टर जन्मजात असामान्यता जैसे फांक तालु, विचलित सेप्टम, ड्रॉपिंग पलके, गंध की हानि जैसी समस्याओं का निदान करते हैं।
  • साइनसाइटिस, टॉन्सिलाइटिस आदि संक्रमण बीमारी के अलावा सांस संबंधित बीमारियों का इलाज भी ईएनटी डॉक्टर के द्वारा किया जाता है।

ईएनटी (ENT) डॉक्टर बनने की योग्यता

अगर आप मेडिकल क्षेत्र में ईएनटी डॉक्टर बनना चाहते है तो कुछ योग्यता निर्धारित किया गया है। नीचे दिए गए योग्यता को फुल फिल करने के बाद ही ईएनटी डॉक्टर बन पाएंगे।

  • ईएनटी डॉक्टर बनने के लिए 10 वीं पास होना बेहद जरूरी होता है।
  • 10वीं पास के साथ-साथ इंटर (12th) में साइंस स्ट्रीम (PCM) में 50% अंक के साथ पास होना अनिवार्य है।
  • ईएनटी डॉक्टर बनने के लिए आपकी उम्र 17 वर्ष से अधिक होना आवश्यक है।

ईएनटी (ENT) डॉक्टर बनने के लिए आवश्यक स्किल्स

  • किसी भी डॉक्टर के पास बेस्ट कम्युनिकेशन स्किल होना चाहिए जिससे मरीज और डॉक्टर के बीच अच्छा संबंध बन सके।
  • ईएनटी डॉक्टर बन कर लंबे समय तक काम करने के लिए आपके अंदर सहनशक्ति होना अनिवार्य है।
  • ईएनटी डॉक्टर को मरीजों के आत्मविश्वास बढ़ाने और उनमें जागृत करने का गुण होना चाहिए।
  • ईएनटी डॉक्टर के पास एक्सीलेंट हैंड आईज कोआर्डिनेशन के साथ प्रोबलम सॉल्विंग स्किल्स और क्रिटिकल थिंकिंग स्किल होना भी जरूरी है।
  • ईएनटी डॉक्टर के अंदर स्ट्रेसफुल कंडीशन में भी मजबूत मोरल फिलॉस्फी होना चाहिए जिससे कार्य में किसी प्रकार की बाधा उत्पन्न ना हो।

ईएनटी (ENT) डॉक्टर कैसे बनें?

अगर आप ईएनटी डॉक्टर बनना चाहते हैं तो नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करनी होगी।

  • सबसे पहले ईएनटी डॉक्टर बनने के लिए 10वीं पास करने के बाद 12वीं में पीसीएम सब्जेक्ट यानी साइंस स्ट्रीम का चयन करना होगा।
  • 12वीं की पढ़ाई मेहनत के साथ पूरी करनी होगी क्योंकि ईएनटी डॉक्टर बनने के लिए 12वीं में 50% मार्क्स अनिवार्य होते हैं।
  • इसके बाद ईएनटी डॉक्टर बनने के लिए MBBS कोर्स में नामांकन लेना होता है।
  • MBBS कोर्स में नामांकन के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता है इस एंट्रेंस एग्जाम को NEET (UG) कहा जाता है। NEET एग्जाम को अच्छे अंक के साथ पास करें और अच्छे कॉलेज में MBBS कोर्स के लिए दाखिला लें।
  • MBBS कोर्स पूरा करने के बाद ईएनटी के लिए स्पेशलाइज्ड कोर्स MS In ENT या MD In ENT को पूरा करे। इसके अलावा स्पेशलाइज ईएनटी के लिए डिप्लोमा कोर्स भी होते है। एमबीबीएस के बाद ईएनटी डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते है।
  • ईएनटी के लिए स्पेशलाइज्ड कोर्स या डिप्लोमा कोर्स पूरा करने के बाद ईएनटी की डिग्री मिलेगी जिसके बाद आप ईएनटी डॉक्टर बन सकते है।

ईएनटी (ENT) के कोर्स

ईएनटी डॉक्टर बनने के लिए सबसे पहले MBBS कोर्स पूरा करना होता है उसके बाद ईएनटी स्पेशलाइज्ड कोर्स किया जाता है ENT Course को नीचे दर्शाया गया है।

ENT Course Course Duration
एमबीबीएस ईएनटी 5.5 साल से 7 साल
डॉक्टर ऑफ मेडिसिन (MD) इन ईएनटी 3 साल
मास्टर ऑफ सर्जरी(MS) इन ईएनटी 3 साल
डिप्लोमा इन ईएनटी 2 साल
डिप्लोमा इन Otolaryngology 2 साल
पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन Otolaryngology 2 साल
डिप्लोमा इन लेरिंगोलॉजी एंड ओटोलॉजी 2 साल
बीएससी ऑडियोलॉजी फोर ईएनटी 2 साल
एमसीएच फॉर ईएनटी 3 साल

ईएनटी (ENT) कोर्स फीस

ईएनटी कोर्स फीस की बात करें तो अलग-अलग कॉलेज एवं संस्थान में फीस भिन्न भिन्न हो सकती हैं नीचे स्पेशलाइज एंटी कोर्स के संभावित फीस दर्शाई गई हैं।

ENT Course ENT Course Fees
MBBS ENT INR 10 लाख से 1 करोड़ तक
MS ENT INR 1.5 लाख से 5 लाख तक
Mch ENT INR 5 लाख से 50 लाख तक
MD ENT INR 10 हजार से 2 लाख तक
Diploma In ENT INR 20 हजार से 1 लाख तक
डिप्लोमा इन लेरिंगोलॉजी एंड ओटोलॉजी INR 1 लाख तक
डिप्लोमा इन Otolaryngology INR 50 हजार से 1 लाख तक
Diploma In Hearing AID and Ear Mould Technology INR 10000 तक
PG Diploma In Otolaryngology INR 50 हजार से 3 लाख तक
PG Diploma In ENT INR2 56 हजार से 2.5 लाख तक
BSc Audiology For ENT INR 5 लाख से 10 लाख तक
BSc Audiology And Speach Language Pathology 10 हजार से 5 लाख तक

ENT Specialized Career Option

ईएनटी के क्षेत्र में ज्यादा डिमांड बढ़ने के कारण छात्र कई क्षेत्र में स्पेशलिस्ट होने के लिए अलग से कोर्स करते हैं। जिसके बाद वे उस क्षेत्र में महारत हासिल कर लेते है जिससे वो दूसरे डॉक्टर से अलग हो जाते है। नीचे ईएनटी स्पेशलिस्ट क्षेत्र के बारे में बताया जा रहा है।

Ears (Otology/Neurotology)– इस क्षेत्र में स्पेशलिस्ट होने के बाद कान में होने वाली सभी बीमारियां जैसे सुनने में कठिनाई, संक्रमण, चक्कर आना, टिनिटस जैसी बीमारियों का इलाज और सर्जरी किया जाता है।

Nose ( Rhinology) – राइनोलॉजी के माध्यम से विचलित सेप्टम, राइनाइटिस, साइनसिसिटीस, साइनस , सिर दर्द और माइग्रेन से संबंधित विशेषज्ञ बनते है। आसान भाषा में कहें तो नाक के डॉक्टर को Rhinology कहा जाता है।

Throat (Laryngology) – ENT में Throat (Laryngology) विशेषज्ञ गले से संबंधित बीमारी जैसे गले का ट्यूमर, आवाज बैठना, गैस्ट्रिक भाटा रोग, गले में खराश जैसी बीमारी का इलाज करते हैं।

Head And Neck/ Thyroid – ईएनटी में Head And Neck/ Thyroid विशेषज्ञ बनने पर सिर और गर्दन का कैंसर, थायराइड संबंधित बीमारियां का इलाज और सर्जरी करते हैं।

Pediatrics – इस क्षेत्र में स्पेशलिस्ट होने के बाद जन्मजात बच्चे के विकास में मदद करना और कान, नाक, होठ और गला से संबंधित सभी विकारों का निदान करना होता है। अधिकतर ईएनटी डॉक्टर इस श्रेणी में स्पेसलिस्ट रहते है।

Job Roll For ENT Doctors

  • ईएनटी डॉक्टर को कान, नाक और गले से संबंधित चिकित्सा और शल्य चिकित्सा की जांच करना होता है।
  • इसके अलावा न्यूरो सर्जन, आई सर्जन और जनरल सर्जन को भी ईएनटी डॉक्टर मदद करते हैं क्योंकि यह सभी अंग आपस में मिले जुले रहते है।
  • ईएनटी डॉक्टर कई बीमारियों के लिए सर्जरी भी करते हैं।
  • इसके अलावा ईएनटी डॉक्टर चेहरे पर सर्जरी और नए रोगों के बारे में रिसर्च भी कर सकते हैं।

ईएनटी (ENT) जॉब और कैरियर स्कॉप

  • ईएनटी विशेषज्ञ के लिए सरकारी और प्राइवेट क्षेत्र में नौकरी के बहुत सारे अवसर उपलब्ध होते हैं। आप ईएनटी में सरकारी डॉक्टर बन सकते है जिसके लिए समय समय पर सरकार द्वारा भर्ती निकाली जाती है।
  • ईएनटी कोर्स करने के बाद एक्सपीरियंस प्राप्त करने के लिए सरकारी हॉस्पिटल और प्राइवेट हॉस्पिटल में बतौर इंटर्नशिप काम कर सकते हैं। जिसके लिए पैसे भी दिए जाते है।
  • ईएनटी में एक्सपीरियंस प्राप्त कर लेने के बाद खुद का क्लीनिक या हॉस्पिटल्स भी खोल सकते हैं। जो काफी ज्यादा मुनाफा वाला व्यवसाय है।
  • इसके अलावा रिसर्च के क्षेत्र में भी एमडी ईएनटी (MD ENT) और एमसीएच ईएनटी (Mch ENT) का कोर्स कर के जा सकते हैं।
  • ईएनटी में अच्छा एक्सपीरियंस प्राप्त कर लेने के बाद मेडिकल कॉलेज और विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और लेक्चरर भी बन सकते हैं।
  • भारत के अलावा विदेशों में भी ईएनटी विशेषज्ञ या एंटी डॉक्टर की ज्यादा मांग रहती है आप विदेश में भी नौकरी कर सकते हैं।

ईएनटी (ENT) जॉब प्रोफाइल

  • ईएनटी असिस्टेंट |
  • ईएनटी सर्जन |
  • ईएनटी प्रोफेसर |
  • ईएनटी सर्जन |
  • ईएनटी कंसलटेंट |
  • ईएनटी प्राइवेट प्रैक्टिशनर |
  • ईएनटी रिसर्चर |
  • इत्यादि |

ईएनटी (ENT) Job Sector

ईएनटी के क्षेत्र में डॉक्टर की डिग्री प्राप्त कर लेने के बाद नीचे दिए गए ऑर्गेनाइजेशन में नौकरी पा सकते हैं।

  • सरकारी हॉस्पिटल |
  • स्पेशल हॉस्पिटल |
  • प्राइवेट हॉस्पिटल्स |
  • खुद के क्लिनिक्स |
  • मेडिकल इंस्टिट्यूट एंड यूनिवर्सिटी |
  • नर्सिंग होम्स |
  • मल्टी स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल |
  • फार्मा कंपनी में रिसर्चर |
  • इत्यादि |

ईएनटी (ENT) Doctor की सैलरी

ईएनटी डॉक्टर को उनके एक्सपीरियंस और कार्य के आधार पर सैलरी दी जाती है। अगर आप सरकारी ईएनटी डॉक्टर बनते हैं तो 40 हजार से 1 लाख प्रति महीने की सैलरी मिल सकता है। इसके अलावा कई प्रकार के भत्ते भी दिए जाते हैं जैसे फ्री आवास, मेडिकल इंश्योरेंस, टेलीफोन भत्ता, ट्रेवल भत्ता इत्यादि।

सरकारी डॉक्टर के पद पर रिटायर होने के बाद पेंशन भी दिया जाता है। इसके अलावा अगर आप प्राइवेट सेक्टर में ईएनटी डॉक्टर के पद पर कार्य करते हैं तो 60 हजार से ₹80 हजार प्रति महीने का सैलरी दिया जा सकता है।

अगर आप खुद के क्लीनिक या हॉस्पिटल खोलते हैं तो लाखो में पैसा कमा सकते है वशर्ते आपको अच्छा एक्सपीरियंस प्राप्त हो और क्लीनिक या हॉस्पिटल लोकप्रिय हो।

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published.